Date: 22 Apr 2019    Time: 

Bachelor Courses

स्नातक परीक्षा (त्रिवर्षीय प्रतिष्ठा पाठ्यक्रम)

स्नातक कला / विज्ञान / वाणिज्य / प्रतिष्ठा पाठ्यक्रम त्रिवर्षीय होने के कारन इसके अध्ययन हेतु पाठ्यक्रम को तीन खण्डों में विभाजित किया गया है| यह क्रमश: स्नातक (प्रतिष्ठा) प्रथम, द्धितीय तथा तृतीय खण्ड के नाम से जाना जाता है| त्रिवर्षीय पाठ्यक्रम रहने के कारन प्रथम, द्धितीय तथा तृतीय खण्डों की अलग - अलग परीक्षा में सम्मिलित होना अनिवार्य है |

प्रतिष्ठा के विषय आनुषंगिक विषय राष्ट्रभाषा कुल
प्रथम खण्ड 2 पत्र (पत्र I तथा II) 2 पत्र (पत्र I किन्हीं दो विषयों से) 1 पत्र (पत्र I) - 5 पत्र
द्धितीय खण्ड 2 पत्र (पत्र III तथा IV) 2 पत्र (पत्र II किन्हीं दो विषयों से) 1 पत्र (पत्र II) - 5 पत्र
तृतीय खण्ड 4 पत्र (पत्र V, VI, VII तथा VIII) - - 1 पत्र सामान्य ज्ञान एवं पर्यावरण अध्ययन 5 पत्र
योग 8 पत्र 4 पत्र 2 पत्र 1 पत्र 15 पत्र

स्नातक प्रतिष्ठा कार्यक्रम

अनिवार्य विषय -कला , विज्ञान , वाणिज्य संकाय
1. राष्ट्रभाषा हिंदी:- (100 अंक ) केवल स्नातक प्रथम एवं द्धितीय खंड में| अहिन्दी भाषी अभ्यर्थी 50 अंकों की अहिन्दी एवं 50 अंकों की मतर्भाषा का अध्ययन कर सकते है |
2. सामान्य एवं पर्यावरण अध्ययन :- स्नातक तृतीय खण्ड की परीक्षा में सभी परीक्षाथियों के लिए 50 अंकों का सामान्य अध्ययन एवं 50 अंकों का पर्यावरण अध्ययन अनिवार्य है |

प्रतिष्ठा एवं आनुषंगिक विषय कला संकाय :- स्नातक प्रथम एवं खंड में प्रतिष्ठा विषय को दो - दो पत्र एवं तृतीय खण्ड में चार पत्र , कुल आठ पत्रों , का अध्ययन करना होगा |प्रत्येक पत्र का पूर्णाक 100 है | प्रतिष्ठा विषय के अतिरिक्त अपने संकाय के विषय समूह में से किन्ही दो विषयों का चयन आनुषांगिक विषय के रूप में करना होगा | इसका अध्ययन प्रथम एवं द्धितीय खण्ड में करना होगा| यदि कोई अभ्यर्थी भाषा एवं साहित्य में से ही किसी एक विषय में प्रतिष्ठा का चयन करता है तो वह एक से अधिक भाषा का चयन आनुषांगिक विषय के रूप में नहीं कर सकता है|

विज्ञान संकाय :- स्नातक प्रथम एवं द्वितीय खंड में प्रतिष्ठा विषय के दो-दो पत्र एवं तृतीय खण्ड में चार पत्र, कुल आठ पत्रों , का अध्ययन करना होगा| प्रत्येक पत्र का पूर्णाक 100 है|
(सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक) प्रतिष्ठा विषय के अतिरिक्त अपने विषय (जीव विज्ञान एवं गणित) समूह में से किन्हीं दो विषयों का चयन आनुषांगिक विषय के रूप में करना अनिवार्य होगा|इसका अध्ययन प्रथम एवं द्धितीय खण्ड में करना है|

वाणिज्य संकाय :- स्नातक प्रतिष्ठा के प्रत्येक खण्ड में निम्नलिखित विषय/पत्र का प्रतिष्ठा एवं आनुषांगिक विषय के रूप में अध्ययन करना अनिवार्य होगा| प्रत्येक पत्र का पूर्णाक 100 है|

एकाउन्ट ग्रुप :-

प्रथम खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 1. फैनेन्शियल एकाउंटिंग
  1. 2. ऑडीटिंग
  1. आनुषांगिक
  1. (i) बिजनेस ऑरगेनाइजेसन
  1. (ii) प्रिसिपस्ल ऑफ इकोनोमिक्स

द्धितीय खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 3. बिजनेस लॉ
  1. 4. स्पेसियलाईजड एकाउंटिंग
  1. आनुषांगिक के पत्र
  1. (iii) मनी एण्ड बैकिंग
  1. (iv) प्लानिंग एण्ड इकोनोमिक डेवलप्मेंट इन इंडिया

तृतीय खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 5. सेक्रेटेरियल प्रैक्टिस
  1. 6.कॉपोरेट फाइनेन्स
  1. -
  1. 7.टैक्सेशन लॉ एण्ड एकाउन्ट्स
  1. 8.बिजनेस स्टेटिस्टिक्स

कॉपोरेट एडमिनिस्ट्रेशन ग्रुप :-

प्रथम खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 1. बिजनेस ऑरगेनाइजेसन
  1. 2. कम्पनी लॉ एण्ड एडमिनिस्ट्रेशन
  1. आनुषांगिक के पत्र
  1. (i) फाईनेन्शियल एकाउंटिंग
  1. (ii) प्रिंसिपल्स ऑफ़ इकोनोमिक्स

द्धितीय खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 1. बिजनेस लॉ
  1. 2. कम्पनी एकाउन्ट्स
  1. आनुषांगिक के पत्र
  1. (iii) मनी एण्ड बैकिंग
  1. (iv) प्लानिंग एण्ड इकोनोमिक डेवलप्मेंट इन इंडिया

तृतीय खण्ड :-

  1. प्रतिष्ठा के पत्र
  1. 5. सेक्रेटेरियल प्रैक्टिस
  1. 6.कॉपोरेट फाइनेन्स
  1. -
  1. 7.टैक्सेशन लॉ एण्ड एकाउन्ट्स
  1. 8.बिजनेस स्टेटिस्टिक्स